Corona Medicine Dexamethason | वैज्ञानिको को मिली कोरोना वायरस की काट डेक्सामेथासोन दवा के ट्रायल रहे कामयाब

Corona Medicine Dexamethason  कोरोना वायरस की कारगर दवा मिलने से पूरी दुनिया में उत्साह WHO ने भी जताई खुशखबरी दोस्तों कोरोना वायरस अब तक पूरी दुनिया में 80 लाख लोगो को शिकार बना चूका है जबकि मरने वालों की तादाद भी लाखो में ही है भारत में भी इस वायरस ने कोहराम मचा रखा है अब सभी को इस खतरनाक वायरस की वैक्सीन बनने का इन्तजार है.डेक्सामेथासोन

 

ताकि कोरोना वायरस को जड़ से ख़त्म किया जा सके दुनिया की तमाम फार्मा कम्पनियाँ इस वायरस की वैक्सीन पर काम कर रही हैं और यही नहीं कई कम्पनियाँ तो वैक्सीन बनाने के बेहद करीब पहुच चुकी हैं.

 

माना जा रहा है की साल के अंत तक कोरोना की वैक्सीन बन कर तैयार हो जायेगी लेकिन बड़ा सवाल यह है की तब तक क्या होगा अगर वैक्सीन को बनने में 3 महीने और लग गये तो पता नहीं कितने और लोगो की जान चली जायेगी.

 

Corona Medicine Dexamethason  नई वैक्सीन तो अभी बन नहीं पाई है लेकिन कोरोना के इलाज में पुरानी दवा बड़े काम आ रही है इस दवा के इलग से ये उम्मीद जगी है की कोरोना संक्रमित ज्यादा से ज्यादा लोगो की जान बचाई जा सके दोस्तों कोरोना वायरस की दवा की खोज में वैज्ञानिको को एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है.

 

इंग्लैंड के वैज्ञानिको का दावा है की ऐसे प्रमाण मिले हैं एक पुरानी दवा कोरोना से लड़ने में मददगार साबित हुई है दोस्तों आज हम आप लोगो को इस लेख के जरिये इसी दवा के बारे में बताने जा रहे हैं.

 

 

एक रिसर्च में कहा गया है की स्ट्रोइड से गंभीर मरीजों की मृत्तु दर एक तिहाई तक घट गई है.

 

वैज्ञानिको को मिली कोरोना वायरस की काट डेक्सामेथासोन दवा के ट्रायल रहे कामयाब

Corona Medicine Dexamethason  दोस्तों ब्रिटेन के वैज्ञानिको का दावा है की कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में डेक्सामेथासोन (DEXAMETHASON) बड़ी कामयाब रही है सस्ती और बड़ी आसानी से मिलने वाली ये दवा कोरोना वायरस के भारी जोखिम वाले मरीजों की जान बचा सकती है.

 

डेक्सामेथासोन (DEXAMETHASON) दुनिया में जारी परिक्षण का सबसे बड़ा हिस्सा है ओक्सपोर्ड यूनिवयर्सिटी के नतीजे में कहा गया है की जो लोग वेंटिलेटर पर थे उनको ये दवा देने के बाद मौत का खतरा एक तिहाई कम हो गया है.

 

जबकि ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहने वाले मरीजों को इस दवा से ज्यादा फायदा होता है जिन मरीजों को ऑक्सीजन सप्लाई की जरुरत होती है उनमे इस दवा के इस्तमाल से मौत का खतरा काफी घट जाता है.

 

Corona Medicine Dexamethason  ब्रिटेन के विशेशयग्ज्ञों का कहना है की कम मात्रा में इस दवा का उपयोग कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में एक बड़ी कामयाबी की तरह सामने आया है इस दवा के इस्तमाल से कोरोना के करीब 20 मरीजों में से 19 मरीज़ बिना अस्पताल में भर्ती हुए ठीक हो रहे हैं.

 

जो मरीज़ अस्पताल में भर्ती हो रहे है उनमे से भी ज्यादातर ठीक हो रहे हैं लेकिन कुछ ऐसे मरीज़ है जिन्हें ऑक्सीजन या फिर वेंटिलेटर की जरुरत पढ़ रही है ये दवा ऐसे ही अधिक जोखिम वाले मरीजों को मदद पहुचती है.

 

इस दवा का इस्तमाल पहले से ही सुजन को कम करने में किया जाता रहा है और अब ऐसा लागता है ये कोरोना वायरस से लड़ने में शारीर के प्रतिरक्षा प्रणाली को मदद पहुचने वाली है जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली अधिक सक्रियता के साथ प्रतिक्रिया करती है तब ऐसे हालात को Psycho chromastone कहा जाता है ये जानलेवा हो सकता है.

 

इसके पहले इस्तमाल से बच सकती थी 5 हजार लोगो की जान

शोधकर्ताओं के मुताबिक ब्रिटेन में महामारी की सुरुआत में दवा का इस्तमाल की किया जाता तो करीब 5 हजार लोगो की जान बच सकती थी साथ ही गरीब मुल्को में बड़ी संख्या के covid 19 मरीजों को भी इससे बड़ा फायदा पहुचाया जा सकता था.

 

इसके नतीजे से पता चला है की भारी जोखिम वाले मरीजो में इसने बेहतरीन काम किया है मगर ये उन लोगो के लिए है जो वेंटिलेटर या भारी जोखिम में हैं और उनको साँस लेने में दिक्कत के चलते ऑक्सीजन की जरुरत पड़ती है.

 

ओक्सपोर्ट यूनिवर्सिटी की टीम के परिक्षण में अस्पताल में भर्ती 2000 मरीजों को दवा दी गयी जबकि अस्पताल से बाहर के 4000 मरीजों पर दवा का इस्तमाल किया गया परीक्षण में पता चला की जो मरीज़ वेंटिलेटर पर थे उनमे मौत का खतरा घट कर 40 फीसदी से 28 फीसदी हो गया.

 

और जिन मरीजों को ऑक्सीजन की जरुरत थी उनमे मौत का खतरा 25 से घट कर 20 फीसदी हो गया|

 

WHO ने क्लीनिकल परीक्षण का कीया स्वागत

WHO विश्व स्वस्थ संगठन ने गंभीर रोग से कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों के इलाज में असर दार दवा डेक्सामेथासोन (DEXAMETHASON) के क्लीनिकल परीक्षण परिणामो का स्वागत किया है विश्व स्वस्थ संगठन के महानिदेशक ने कहा है की यह पहला इलाज़ है जिसमे ऑक्सीजन और वेंटिलेटर का सहारा ले रहे मरीजों की मौत का जोखिम कम हुआ है.

 

इसके साथ ही विश्व स्वस्थ संगठन ने ब्रिटेन सरकार ब्रिटेन के अस्पतालों और मरीजों को बधाई दी है इसके साथ ही विश्व स्वस्थ संगठन की मुख्य वैज्ञानिक डॉक्टर टोमिया सोमिनाठन ने आसंका भी जाहिर की है|

 

ज्यादा बीमार न होने पर DEXAMETHASON का इस्तमाल होगा वर्जित

डेक्सामेथासोन (DEXAMETHASON) का इस्तमाल उन लोगो पर नहीं किया जाना चाहिए जो गंभीर रूप से बीमार नहीं हैं क्यू की अनुचित तरीके से दवा का सेवन संक्रमण की स्थिति को और बिगाढ़ सकता है इसका इस्तमाल अस्पताल में और डॉक्टर्स की सलाह पर ही होना चाहिए.

 

हलाकि कोरोना सलाहकार की माने तो यह रिसर्च कोरोना महामारी से जूझ रही जिन्दगी में और अर्थ वेवस्थाओ के लिए एक वरदान साबित होगी उन्होंने कहा की इससे दुनिया भर में असंख लोगो की जान बच जायेगी|

 

DEXAMETHASON नाम की दवा 1960 के दसको से चली आ रही है

डेक्सामेथासोन (DEXAMETHASON) 1960 के दसको से गठिया और अस्थमा के इलाजों में इस्तमाल की जाने वाली दवा है कोरना के जिन मरीजों को वेंटिलेटर की जरुरत पड़ रही है उनमे से आधे नहीं बच पा रहे है.

 

इस लिए इस जोखिम को एक तिहाई तक कम कर देना वाकई में एक बड़ी कामयाबी है और हम यही उम्मीद करते है की जल्द से जल्द in दवाओ का और परीक्षण कर मार्केट में उतरा जाए जिससे की जल्दी से जल्दी इस कोरोना से भरी जिन्दगी से हम सभी देश वाशियों को छुटकारा मिल सके|

 

क्या है आप की राय कमेंट में जरुर बतायें

दोस्तों इसके बारे में आप लोगो की क्या राय है कृपया कमेंट कर के जरुर बतायें उम्मीद करते है की आज की इस पोस्ट से आप को और भी कुछ नया जानने को मिला होगा.

 

अगर यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट कर के जरुर बताये और आप ने हमे सोसल अकाउंट में फौलो नहीं किया है तो कर ले मिलते है ऐसी ही एक और जानकारी से भरी पोस्ट में तब तक के लिए नमस्कार !

2 thoughts on “Corona Medicine Dexamethason | वैज्ञानिको को मिली कोरोना वायरस की काट डेक्सामेथासोन दवा के ट्रायल रहे कामयाब”

  1. Pingback: Dexamethasone कोरोना के लिए रामबाण दवा, भारत है इसका सबसे बड़ा उत्पादक
  2. Pingback: Antarctica Me UFO | अंटार्कटिका में बर्फ के निचे मौजूद है UFO - Gyan News

Leave a Comment