Dexamethasone कोरोना पर भारतीयों की बड़ी मौज रामबाण दवा का भारत सबसे बड़ा उत्पादक

Dexamethasone कोरोना पर भारतीयों की बड़ी मौज रामबाण दवा का भारत सबसे बड़ा उत्पादक

दोस्तों भारत एक बार फिर से दुनिया के लिए प्राणदाता बनने की भूमिका में आने वाला है कोरोना काल में जब दुनिया वायरस से कराह रही है तो ऐसे मुस्किल समय में भारत दुनिया के लिए मददगार साबित हो सकता है.

 

Dexamethasone कोरोना काल में दुनिया भारत का फिर से सजदा करेगी क्यू की आज के समय में कोरोना वायरस को कमजोर करने के लिए जिस दवा का नाम दुनिया के लिए हर वैज्ञानिक के जुबान पर है उस दवा का भारत के पास बहुत बड़ा भण्डार है.

 

भारत के पास इस दवा का इतना बड़ा स्टॉक है की वो पूरी दुनिया को इसे दे सकता है अगर ऐसा होता है तो दुनिया में भारत की चर्चा तेज़ी से तो बड़ेगी ही साथ ही कोरोना की वजह से कमजोर अर्थवेवस्था को एक बूस्ट भी मिल जायेगी.

 

दोस्तों आज हम आप लोगो को भारत की इसी दवा के बारे में बताने वाले हैं जो कोरोना के इलाज में कारगर साबित हो रही है तो चलिए दोस्तों आप लोगो को बताते है की आखिर ये कौन से दवा है और भारत के पास इस दवा का कितना बड़ा स्टॉक मौजूद है|

 

 

भारत के पास है डेक्सामेथासोन का भंडार

Dexamethasone दोस्तों ब्रिटेन के वैज्ञानिको का दावा है की कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में डेक्सामेथासोन बड़े काम की दवा है बड़ी सस्ती और आसानी से मिलने वाली ये दवा कोरोना वायरस के भरी जोखिम वाले मरीजों की जान बचा सकती है.

 

और आप लोगो को जान कर हैरानी होगी की भारत के पास इस दवा का इतना बड़ा भंडार है की वो इस दवा को दुनिया के 107 देशो को export भी करता है अच्छी बात ये है की दवा बेहद सस्ती है.

 

और यही नहीं भारत में इस दवा के 20 ब्रांड्स मौजूद हैं देश में इस दवा की 10 गोली का पत्ता मात्र 3 रूपए की आती है यानि 30 पैसे में 1 टेबलेट पड़ती है.

 

Dexamethasone दवा कम्पनियाँ इस दवा को 3 रूप में बनाती हैं टेबलेट, इंजेक्सन, और ओरल ड्रॉप भारत में इस दवा को सबसे ज्यादा Zydus केरला, Wockhardt, Cadla, GLS नाम की कम्पनियाँ इस दवा को बनती हैं.

 

लिहाजा ये आसानी से उपलब्ध भी है इस दवा का इस्तमाल पिछले 8 सालों से गठिया और अस्तमा के रोगियों को दी जाने वाली दवा के रूप में किया जा रहा है और इसे त्वचा सम्बंधित बीमारियों के लिए भी इस्तमाल किया जाता है.

 

दरअसल ये दवा एक stroit है इसे डॉक्टर्स की देख रेख में मरीजों को दिया जाता है लेकिन अब वैज्ञानिको को पता चला की ये कोरोना मरीजों को काफी हद तक ठीक भी कर सकती है.

 

Dexamethasone डेक्सामेथासोन को 1957 में बनाया गया था लेकिन इसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 1961 में बाजार में उतारा गया था  कोरोना से लड़ने के लिए इस दवा को काफी कारगर माना जा रहा है भारत में इस दवा का व्यापार करीब 100 करोड़ रूपए सालाना है.

 

कोरोना काल में भारत की डूबती अर्थ वेवस्था को इस दवा की वजह से पंख लग सकते हैं भारत डेक्सामेथासोन के सबसे बड़े खरीदार हैं अमेरिका, कैनेडा, रूस युगांडा, डाईज़िरिया ये पाचों देश इस द्वक e निर्यात का 64.54 फीसदी हिस्सा Cansume करते है.

 

दवा के ट्रायल में कैसे मिली कामयाबी

Dexamethasone मौजूदा समय में डेक्सामेथासोन दवा दुनिया में जारी परीक्षण का सबसे बड़ा हिस्सा है ओक्सपोर्ट यूनिवर्सिटी के रिसर्च में कहा गया है की जो लोग वेंटिलेटर में थे उनको ये दवा देने के बाद मौत का खतरा एक तिहाई कम हो गया है.

 

जबकि ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहने वाले मरीजो को इस दवा से ज्यादा फायदा होता है जिन मरीजों को ऑक्सीजन सप्लाई की जरुरत होती है उनमे इस दवा के इस्तमाल से मौत का खतरा काफी घट जाता है.

 

दुनिया को कोरोना से मुक्ति दिलाएगा भारत

ब्रिटेन के विषेसयज्ञों का कहना है की कम मात्रा में इस दवा का उपयोग कोरोना के खिलाफ बड़ी लड़ाई में एक बड़ी कामयाबी की तरह सामने आया है ओक्सपोर्ट यूनिवर्सिटी की टीम के परीक्षण में अस्पताल में भर्ती 2000 मरीजों को दवा दी गयी.

 

जब की अस्पताल से बाहर के 4000 मरीजों पर दवा का परीक्षण किया गया परीक्षण में पता चला की जो मरीज़ वेंटिलेटर पर थे उनमे मौत का खतरा घट कर 40 फीसदी से 28 फीसदी हो गया जिन मरीजों को ऑक्सीजन की जरुरत थी उनमे मौत का खतरा 25 से घट कर 20 फीसदी हो गया.

 

विश्व स्वस्थ संगठन ने गंभीर रोग से कोरोना वायरस से सक्रमित मरीजों के इलाज़ में असर दार दवा डेक्सामेथासोन के क्लीनिकल परीक्षण के परिणाम का स्वागत किया है.

 

और माना जा रहा है की जल्दी इस दवा को भारत दुनिया भर में भेजना सुरु कर सकता है ताकि कोरोना संक्रमण से जूझ रहे मरीजों पर इसका इस्तमाल किया जा सके.

 

इस दवा पर सभी मानको पर अपेक्षित रूप से खरा उतरना कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अब नील का पत्तर बनने वाला है शोधकर्ताओं ने अफ़सोस जताया है की अगर ये पहले पता चल जाता तो कोरोना से मरने वाले लोगो की जान बचाई जा सकती थी.

 

सस्ती होना इस दवा की दूसरी गुड्वक्ता है इसलिए ये दवा गरीब देशो के लिए काफी फायदेमंद सिद्ध हो सकती है दोस्स्तो इस बारे में आप का क्या विचार है आप हमे कमेंट के जरिये जरुर बताये.

 

आप ने अभी तक हमे सोसोल अकाउंट में जा कर फौलो नहीं किया है तो जा कर कर ले मिले है अगली पोस्ट में तब तक के लिए नमस्कार !

2 thoughts on “Dexamethasone कोरोना पर भारतीयों की बड़ी मौज रामबाण दवा का भारत सबसे बड़ा उत्पादक”

  1. Pingback: Antarctica Me UFO | अंटार्कटिका में बर्फ के निचे मौजूद है UFO - Gyan News
  2. Pingback: Surya Grahan 2020 | 21 जून को लगने वाले सूर्य ग्रहण की खास बात -

Leave a Comment