TikTok Cloning के ज़रिए भारत में अब तक चल रहे थे 47 बैन Apps, जानें कैसे

TikTok Cloning दोस्तों जैसा की आप लोग जानते हैं कि भारत सरकार ने चीन पर दूसरा Digital strike करते हुए 47 Chinese apps को बैन किया था . दोस्तों खास बात ये है कि 47 ऐप्स पहले ही बैन हो चुके 59 ऐप्स के क्लोन एप्प थे, जिन्हें अभी भी कई Users किसी तरह से इस्तेमाल कर रहे थे .
 
 
29 JUN को बैन हुए 59 ऐप्स की लिस्ट में Tiktok, Shareite, Kwai, UC Browser, Baidu map, Sheen, Clash of Kings, DU Battery Saver, Hello, Like, YouCam Makeup, Mi Community जैसे ऐप्स मौजूद थे.

 

लेकिन दोस्तों आप को बता दें की सरकार के द्वारा बैन किए जाने के बावजूद भी इनमें से 47 ऐप भारत में Cloning के जरिये चलाये जा रहे थे . इन ऐप में से Tiktok की बात करें तो ये ‘TikTok लाइट कैंम्पेनर एडवांस, हेलो लाइट, शेयरइट लाइट, बिगो लाइव लाइट, VFY लाइट के तौर पर मौजूद थे, जिसे भारतीय यूज़र अभी इस्तेमाल कर पा रहे थे. हालांकि सरकार के कठोर कदम के बाद ये ऐप्स पूरी तरह से बंद हो गए हैं.

 

 

जानिए क्या होते हैं क्लोन ऐप्स ?
दोस्तों आप की जानकारी के लिए बता दे की क्लोन ऐप बिलकुल Original app की तरह ही दिखते हैं, और इनके Function भी बिलकुल real app की तरह ही काम करते हैं. कई बार Companies official अपनी apps का Light version launch करती हैं,

 

जो कि यूज़र्स के फोन स्टोरेज को ध्यान में रखकर बनाया जाता है. दोस्तों ज़्यादातर मामलों में ऐसे ऐप्स के साइज़ Original app से कम होते हैं, और कुछ छोटे फीचर्स भी नहीं दिए जाते हैं लेकिन देखने में और इस्तेमाल करने में ये ऐप्स बिलकुल Original app की तरह होते है और Original app की तरह ही काम करते हैं |

 

चीनी कंपनियों को दी गयी थी चेतावनी
सरकार ने चीनी कंपनियों के 59 ऐप पर रोक लगाने के बाद पिछले हफ्ते इस आदेश का सभी को कड़ाई से पालन करने को कहा था  और उल्लंघन करने पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दी गयी थी . सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने इन संभी कंपनियों को पत्र लिखकर आगाह किया था कि सभी बैन हो चुके एप्प को किसी भी रूप में इस्तमाल करना गैर क़ानूनी माना जायेगा .

 

और इस आदेश को नजरअंदाज करने पर शक्ति से कड़े कदम उठे जाएँगे और जो कम्पनी ऐसा करते पाई गयी उसके खिलाफ भी कड़े कदम उठाये जायेंगे ऐसा भारत सरकार के नियम से सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने सभी मोबाइल एप्प कम्पनियों को चेतावनी दी गयी है .

 

प्रतिबंधित सूची में शामिल अगर कोई भी ऐप किसी अन्य माध्यम से भारत में उपयोग के लिए उपलब्ध कराया जाता है तो इसे सरकारी आदेश का उल्लंघन माना जाएगा. और उसने कहा कि इन सभी कंपनियों को निर्देश दिया जाता है कि वे मंत्रालय के आदेश का कड़ाई से पालन करें और ऐसा नहीं करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी|

 

Leave a Comment